×
Categories See All >

Geeta Gyan: Principles and Practices, as Told in Geeta, for Conductance of Worldly Affairs

₹307 ₹283 | 8% off

Inclusive of all taxes

Quantity
(50 available)

Product Details

  • Language-HINDI
  • Genre- Religion
  • ISBN- 9789381384497
  • Author- Brahamm Dutt
  • Book publication date - 14-06-2011
  • Pages-484
  • Color - B/W
  • Binding- Paperback
  • Edition-Latest Revised Edition
  • BISAC CODE- PHI033000 PHILOSOPHY / Hindu 
  • BIC CODE- YQRN3 EDUCATIONAL: RELIGIOUS STUDIES: HINDUISM

5 Days Easy Return

No Contact Delivery

Secure Transaction

Cash on Delivery

Lowest Price

वी एण्ड एस पब्लिशर्स द्वारा प्रकाशित पूर्व दशकों की सबसे लोकप्रिय व अधिकतम विक्रय पुस्तक 450 से अधिक पृष्ठों में समाहित मानक गीता ज्ञान आपके समक्ष प्रस्तुत है। वाराणसी के साहित्य शास्त्री ब्रह्मदत्त वात्स्यायन द्वारा लिखित इस सर्वश्रेष्ठ पुस्तक में स्वामी मधुसूदन सरस्वतीकृत गीता ध्यानम्य् सहित श्रीमद्भगवत गीता के सम्पूर्ण श्लोक, उनके पदच्छेद और सरल हिन्दी में पदार्थ एवं श्लोकानुवाद सम्मिलित है। दुरूह भावों तथा दुर्गम स्थलों को समुगम बनाने के लिए टिप्पणी के रूप में विस्तृत विवेचन, अध्यायों के नामों का स्पष्टीकरण, प्रत्येक अध्याय का सारांश और अगले-पिछले अध्यायों व श्लोकों का पारस्परिक सम्बन्ध विस्तारपूर्वक दिया गया है। महाभारत और गीता के प्रतिपाद्य विषयों पर विचारोत्तेजक आलेख तथा रोचक एवं शिक्षाप्रद परिशिष्टों से सम्पन्न गीता-प्रेमियों के लिए परमोउपयोगी पाठ्यसामग्री पुस्तक को अद्वितीय बनाती है।

There have been no reviews for this product yet.
Back to top